वसंत कुसुमाकर रस ! Diabetes-General Weakness और Sexual Weakness में प्रभावी औषधि

By | August 12, 2018

वसंत कुसुमाकर रस शरीर में नई उर्जा – शक्ति व स्फूर्ति प्रदान करने वाली आयुर्वेद की एक बहुत प्रचलित औषधि है | खनिज, धातु और जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाया जाने वाला यह रसायन, रोगी के immune system को मजबूत बनाता है | शरीर को ताकत प्रदान करता है और साथ ही मानसिक रूप से भी सुद्रढ़ बनाता है | इसलिए यह(Vasant Kusumakar Ras Hindi) एक आयुर्वेदिक औषधि होने के साथ-साथ टॉनिक का भी कार्य करता है जिसे स्वस्थ व्यक्ति भी प्रयोग कर शरीर में उर्जा और शक्ति को बढ़ा सकता है |

वसंत कुसुमाकर रस में – सोना, चांदी और मोती जैसे कीमती तत्वों को भस्म के रूप में मिलाया जाता है | इस कारण से इस उत्पाद की कीमत बहुत अधिक है किन्तु यह उत्पाद 100 % अपना प्रभाव दिखाता है |

vasant kusumakar ras hindi me

Vasant Kusumakar Ras Hindi Me :

वसंत कुसुमाकर रस – Active Ingredients :-

स्वर्ण भस्म – रजत भस्म – वंग भस्म – अभ्रक भस्म – प्रवाल भस्म – मुक्ता भस्म – नागा भस्म – रस सिन्दूर | वसंत कुसुमाकर रस बनाने वाली अगल-अलग कम्पनियां जैसे : डाबर, वैद्यनाथ के अनुसार active ingredients थोड़े भिन्न हो सकते है |

वसंत कुसुमाकर रस इन रोगों में लाभ प्रदान करता है :-

  • प्रमेह और मधुमेह रोग में लाभकारी
  • मधुमेह रोग से शरीर में आने वाली कमजोरी दूर करने के लाभकारी
  • सामान्य कमजोरी दूर करने में उपयोगी
  • Immune System को सुद्रढ़ बनाने में लाभकारी
  • गुप्त रोग जैसे : – धातु रोग , sexual weakness , शीघ्रपतन, नपुंसकता, बिना कारण के शुक्रपात(वीर्य रोग), नशों की कमजोरी जैसे और भी बहुत से पुरुष यौन समस्यों में बहुत लाभकारी औषधि है |
  • ह्रदय रोग में लाभकारी |
  • मानसिक रोगों में भी यह औषधि गुणकारी है |
  • खांसी-जुकाम व अन्य पेट के रोगों में भी इस औषधि को सहायक औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है |

Vasant Kusumakar Ras Hindi : –

वसंत कुसुमाकर रस – सेवन विधि व ध्यान देने योग्य बातें :-

खाना खाने के एक घंटे बाद इसका सेवन करें | कुछ विशेष परिस्तिथियों को छोड़कर खाली पेट इस औषधि का सेवन नहीं करना चाहिए | लम्बे समय तक इस औषधि का सेवन न करें | अगर आप सामान्य कमजोरी में इस औषधि को लेते है तो अधिक से अधिक 1 महीने ही सेवन करें | इसके बाद 2 से 3 महीने के बाद फिर से इस औषधि का सेवन किया जा सकता है |

  • वसंत कुसुमाकर रस का सेवन आप दूध – मक्खन या शहद के साथ कर सकते है |
  • मात्रा : 125 मिली ग्राम से 250 मिली ग्राम ,  सुबह – शाम दोनों समय | रोग के अनुसार मात्रा को कम या अधिक किया जा सकता है इसलिए चिकित्सक से परामर्श लेकर ही सेवन करना चाहिए |
  • किडनी रोग में या गर्भवती महिलायें इस औषधि का सेवन न करें या चिकित्सक की देख-रेख में सेवन करें |
  • भूलकर भी इस औषधि की overdose नहीं खानी चाहिए, अन्यथा इसके खतरनाक परिणाम सामने आ सकते है |

कुछ आयुर्वेदिक औषधि निर्माण करने वाली कम्पनियाँ जो इस औषधि को बनाती है उनका विवरण इस प्रकार से है : –

1. Baidyanath Co. (बैद्यनाथ औषधि निर्माता Co.)  

Basant kusumakar Ras (with Gold, Silver & Pearl)  –Price 10 tablets Rs 560.00 

2. Dabur औषधि निर्माता Co. :- 

Dabur Vasant Kusumakar Ras (With Gold & Pearl) – 30 Tablets Pack Rs 1199.00 

3. Zandu औषधि निर्माता Co. :- 

Zandu Vasant Kusumakar Ras  – Price 10 Tablets Rs 470.00 

वसंत कुसुमाकर रस(Vasant Kusumakar Ras Hindi) classic) आयुर्वेद का एक प्रसिद्द रसायन है जो भारी धातुओं (सोने, चांदी, मोती) से बना होने के कारण पूर्णरूप से चिकित्सक की देख-रेख में ही सेवन करना उचित माना गया है | अपील : इस post में दी गयी जानकारी के आधार पर self चिकित्सा न करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *